फगवाड़ा में कुछ कांग्रेसियों को नहीं भा रही उम्मीदवार यामिनि गोमर

अभी हाईकमांड से लगाई विचार करने की गुहार

फगवाड़ा में कुछ कांग्रेसियों को नहीं भा रही उम्मीदवार यामिनि गोमर

लोकसभा चुनाव को लेकर जहां चुनावी माहौल पूरी तरह से गर्मा चुका है वहीं इस गर्माए हुए माहौल में भी होशियारपुर हलके में अपनी ही पार्टी के उम्मीदवारों में कांग्रेस की उम्मीदवार जोश नहीं भर पा रही है।

 

गौर हो कि कांग्रेस द्वारा लंबे समय से राज़निति में शांत बैठी यामिनी गोमर को अपने होशियारपुर से उम्मीदवार के तौर पर ऐलाना है लेकिन लंबे समय से राज़निति में शांत बैठी यामिनि गोमर कांग्रेसी वर्करों में ही जोश नहीं भर पा रही है, बात की जाए अगर होशियारपुर लोकसभा के फगवाड़ा हलके की तो बीते दिनी हुए एक बैठक में भी कांग्रेसी वर्करों में जोश नहीं दिखाई दिया था जिसके बाद अब फगवाड़ा ईलाके के ही कुछ दिग्गज़ कांग्रेसियों ने भी गोमर के नाम पर निराशा जताई है।

 

इस बारे में एक प्रैस नोट ज़ारी करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं रेलवे बोर्ड के पूर्व सदस्य राममूर्ति भाणोकी ने कहा कि होशियारपुर सीट से कमजोर कैंडीडेट खड़ा करके कांग्रेस हाईकमान ने पार्टी कार्यकर्ताओं को निराश कर दिया है।

 उन्होंने कहा कि पंजाब कांग्रेस को लोकप्रियता की बुलंदी पर लेकर जाने वाले चुनिंदा एस.सी. नेताओं के परिवारों को एक सुनियोजित साजिश के तहत दरकिनार किया जा रहा है। पार्टी हाईकमान का यह फैसला बाकी देश की तरह पंजाब में कांग्रेस के पतन का कारण बनेगा। उन्होंने कहा कि संतोष चौधरी एवं उनकी पुत्री नमिता चौधरी होशियारपुर सीट से आज भी मजबूत दावेदार हैं, लेकिन पार्टी ने यामिनी गोमर को टिकट देकर यह सीट विपक्ष की झोली में डालने का काम किया है।

 भाणोकी ने कहा कि यामिनी गोमर की होशियारपुर लोकसभा सीट के अन्तर्गत आने वाले किसी भी हलके में न तो वोटरों में कोई पहचान है और न ही पार्टी कार्यकर्ताओं से उनका संपर्क रहा है।

 जब से उनके नाम का ऐलान हुआ है तब से आज तक चुनाव प्रचार मुहिम ठंडे बसते में है क्योंकि कार्यकर्ता हतोत्साहित होकर घर में बैठ गये हैं। उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री अंबिका सोनी पर पार्टी हाईकमान को गुमराह करने का संगीन आरोप लगाते हुए यहां तक कहा कि यदि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने अपनी भूल का समय रहते सुधार न किया तो पंजाब कांग्रेस धरातल में समा जायेगी क्योंकि पंजाब में कांग्रेस के मजबूत स्तंभ रहे पूर्व कैबिनेट मंत्रियों चौधरी गुरबंता सिंह व चौधरी संतोख सिंह का परिवार और स्व. दर्शन सिंह के.पी. के पुत्र महिन्द्र सिंह के.पी. कांग्रेस पार्टी से निराश होकर किनारा कर चुके हैं। आतंकवाद में प्राणों की आहुति देने वाले पूर्व मंत्री चौधरी जगत राम सूंढ का परिवार भी हाशिये पर है। अब श्रीमति संतोष चौधरी के ससुर स्व. सुंदर सिंह पूर्व कैबिनेट मंत्री पंजाब की राजनीतिक विरासत को भी छीना जा रहा है। उन्होंने कहा कि इससे बड़ी और विडंबना क्या होगी कि 2014 के चुनाव में सिटिंग सांसद श्रीमति संतोष चौधरी की टिकट बिना वजह काट दी गई। जिसके बाद आज तक कांग्रेस पार्टी होशियारपुर सीट नहीं जीत सकी और यदि पार्टी हाईकमान ने अभी भी संतोष चौधरी या उनकी पुत्री नमिता चौधरी के नाम पर दोबारा विचार न किया तो निश्चित तौर पर 2024 के मौजूदा चुनाव में होशियारपुर सीट पर कांग्रेस को करारी मात मिलना तय है। इस अवसर पर उनके साथ कांग्रेस नेता चरणजीत कैले, पी.के. ओहरी, वरुण ओहरी, विजय कुमार, लवली चंदड़, हरी राम चंदड़, प्रकाश राम बी.ए., प्रमोद कुमार जोशी, हरबंस लाल पूर्व सरपंच खलवाड़ा, हंसराज पलाही आदि उपस्थित थे।